Stephen hawking Story in Hindi

“मुझे मौत से कोई डर नहीं लगता पर मुझे मरने की भी कोई जल्दी नहीं है। …

क्यूंकि मरने से पहले ज़िन्दगी में बहोत कुछ करना बाकि है।

Stephen hawking

Stephen hawking
Stephen hawking

ये शब्द है मशूहर  वैज्ञानिक Stephen hawking (स्टीफन हॉकिंग) के जिनके शरीर का कोई भी अंग काम नहीं करता था वो बोल नहीं सकते वो चल नहीं सकते फिर भी जीना चाहते है। स्टीफन कहते है ज़िंदगी चाहे जितनी भी कठिन हो जीवन और मृत्यु के बीच आप जो भी चाहे कर सकते है और सफल हो सकते है.. स्टीफन का जन्म इंग्लैंड के ऑक्सफ़ोर्ड शहर  में 8 जनवरी सन 1942 में हुआ था। स्टीफन के जन्म के समय दूसरा विश्वयुद्धा चल रहा था। स्टीफन पिता इंग्लैंड के हाईगेट शहर में रहा करते थे जंहा अक्सर  बम-बरी हुआ करती थी जिसके कारण वो अपने पुत्र (Stephen hawking) के जन्म के लिए ऑक्सफ़ोर्ड शहर चले आये जहाँ स्टीफन का जन्म हुआ।

Stephen hawking के पिता डॉक्टर और माँ गृहणी थी स्टीफन बचपन से ही बहुत बुद्धिमान थे और लोग उन्हें जूनियर आइंस्टीन कह कर बुलाते थे। उन्हें गणित में बहोत दिलचसपी थी बचपन में ही उन्होंने कई इलेक्ट्रॉनिक सामानों को जोड़ कर अपने लिए कंप्यूटर बना लिया था।

ये भी पढ़ें : करोली टेकक्स की प्रेरणादायक कहानी

17 साल की उम्र में Stephen hawkingने ऑक्सफ़ोर्ड युनिवर्सिटी में प्रवेश ले लिया इसी समय Stephen hawking को अपने रोजमरा के कार्य करने में भी दिकत होने लगी और एक बार वो सीढ़ी से नीचे उतरते समय गिर गए और ये शिकायते बार बार होने लगी तब स्टीफन ने डॉक्टर से जाँच कराया तब  पता चला की स्टीफन को एक कभी ठीक न होने वाली बीमारी हो गयी है जिसका नाम NMD (न्यूरॉन मोर्टार डिजीज ) है इस बीमारी में शरीर की मांसपेशियों को नियंत्रित करने वाली नशे धीरे-धीरे काम करना बंद कर देती है और शरीर अपंग होने लगता है इस बीमारी के मरीज अधिकतम 5 साल जी सकते है इस बात से स्टीफन बहोत निराश हुए…..

Stephen hawking
Stephen hawking

पर Stephen hawking ने हार नहीं मानी अपनी बीमारी को दरकिनार कर उन्होंने अपना बचा हुआ पूरा जीवन विज्ञान की सेवा में लगा दिया धीरे धीरे स्टीफन की थ्योरी लोगो और अन्य वैज्ञानिकों के बीच मशहूर होने लगी पर बीमारी ने Stephen hawking का साथ नहीं छोड़ा उनके बांये  अंग ने  पूरी तरह काम करना बंद कर दिया और बाद में स्टीफन ने बोलना भी बंद कर दिया फिर Stephen hawking ने वीलचेयर का सहारा ले लिया स्टीफन का वीलचेयर पूरी तरह से कम्पूटराइज था वीलचेयर में लगे यंत्र उनकी सर,हथेली,आंखों और गालों के कम्पन से ये पता लगा लेते थे की स्टीफन क्या बोलना कहते है।

Stephen hawking
Stephen hawking

स्टीफन का शरीर काम करना बंद कर चूका था पर उनका दिमाक पूरी तरह से काम कर रहा था स्टीफन ने अपने बीमारी के सम्बन्ध में डॉक्टरों की बात को पूरी तरह मात दे दी थी स्टीफन ने ब्लैक होल और हाकिंग रेडिशन जैसी कई महान विचार दुनिया को दिया Stephen hawking ने आने विचारों को समझने के लिए किताब लिखी ““A Brief History of Time ” जिसने पूरी दुनिया के विज्ञानं जगत में तहलका मचा दिया। 14 मार्च 2018 को इस महान वैज्ञानिक ने सब को अलविदा कह दिया।

Stephen hawking book
Stephen hawking book

Stephen hawking एक ऐसा नाम है जिसने दुनिया को सीखा दिया की आप की कमजोरी आप के सपनो और आप की सफलता के आड़े कभी नहीं आ सकती आत्मविश्वास और कुछ कर गुजरने  की चाह आप को हर मंजिल तक जरूर पहुंचाएगी।

नोट- इस लेख में लिखी बाते इंटरनेट में मौजूद समाग्री के आधार पर है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *