IPL हीरो जिन्हें भुला दिया गया

हम सभी ने IPL में बहोत से खिलाडियों को उभरते हुए देखा है पर कई खिलाडी ऐसे भी हैं जिन्हें लोगो ने कुछ समय के लिए अपने सर-आँखों पर बिठाया और वो IPL के शान बने पर आज वो गुमनामी के अँधेरे में कंही खो गये है आज हम ऐसे ही पांच खिलाडियों के बारे में जानेगें .

स्वपनिल असनोडकर

स्वपनिल असनोडकर

picture source :deccanchronicle.com

जब IPL 2008 में शुरू हुआ था तो कई क्षेत्रीय खिलाडी उभर कर सामने आये उनमे से एक थे गोवा से आने वाले विकेट कीपर बेट्समैन स्वपनिल असनोडकर जिन्होंने राजिस्थान रॉयल्स की तरफ से खेलते हुए 311 रन बनाये और अपनी टीम को IPL जीताने में महतवपूर्ण भूमिका निभाई .पर अगले सीजन में स्वपनिल अपना कमल नहीं दिखा पाए और 11 मैच में सिर्फ 111 ही बना पाये.
उनका नाम एक मैच फिसिंग में भी आया पर जाँच के बाद पता चला की वो निर्दोष है पर फिक्सिंग में नाम आने के बाद स्वपनिल को किसी टीम ने नहीं ख़रीदा और उनका क्रिकेट करियर लगभग ख़त्म हो गया.

पॉल वल्थाटी

पॉल वल्थाटी

picture source :aajtak.intoday.in

2011 में किंग्स इलेवन पंजाब की तरफ से खेलने वाले पॉल वल्थाटी का नाम अपने टीम में सबसे अच्छे खिलाडियों में गिना जाता था उन्होंने पुरे टूनामेंट में 460 रन बनाये साथ ही एक शानदार शतक भी जड़ा पर एक इंजरी होने के कारण उन्हें अपने खलने के तरीके में बदलाव करना पड़ा फिर जिसके बाद वो 2011 के अपने शानदार प्रदर्शन को कभी दोहरा नहीं पाए. वल्थाटी ने अपना आखरी मैच 2013 में खेला था अब वो क्रिकेट से पूरी तरह बाहर हो चुके है .

 मनमिंदर सिंह बिसला

मनमिंदर सिंह बिसला

picture source :cricketcountry.com

2012 का IPL फाइनल आप को याद होगा जिसमे KKR (कोलकाता नाइट राइडर्स) और चिनाई सुपर किंग्स के बिच मुकाबले में KKR ने चिनाई सुपर किंग्स को हरा के पहली बार IPL ट्रोफी जीती थी उस मैच के मैन ऑफ़ द मैच थे मनमिंदर सिंह बिसला जिन्होंने ने 48 गेंदों में 89 रन बनाये थे सभी को यकीन था की बिसला की जगह टीम में पक्की है पर बिसला का अगला सिजन ख़राब गया और रोबिन उत्थपा ने उनकी जगह ले ली.
एक समय जो IPL के हीरो थे आज उन्हें किसी क्षत्रिय टीम में भी जगह नहीं मिल रही है. अब वो छोटे लेबल के कॉरपरेट टीम में खेलते है.

जोगिन्दर शर्मा

picture source :cricketcountry.com

2007 वर्ल्ड कप T-20 जीतने के बाद जोगिन्दर शर्मा का नाम हर किसी के जुबान पर था उन्होंने अपने IPL की शुरुवात धोनी की कप्तानी में चिनाई सुपर किंग्स के तरफ से की उनका सफ़र ठीक चल रहा था पर 2011 में एक गंभीर चोट लग जाने के बाद उन्हें अपना क्रिकेट बंद करना पड़ा .
आज वो हरियाणा पुलिस में DSP के पद पर अपनी सेवा दे रहे हैं .

कामरान खान

कामरान खान

picture source :india.com

IPL 2009 में खलने वाले कामरान खान की कहानी सब से अलग है उत्तर प्रदेश के एक छोटे से शहर से आने वाले कामरान खान को राजिस्थान रॉयल्स ने खरीदा जिससे कामरान रातो रात सुर्खियों में आगये क्यूँ की कामरान एक ऐसे प्लेयर थे जिन्होंने कभी कोई 1st क्लास मैच नहीं खेला था उन्होंने पुरे टूनामेंट में 11 विकेट लिए पर उनके बोलिंग एक्शन को ले कर शिकायत दर्ज करा दी गयी और उन्हें अपना बोलिंग एक्शन बदलना पड़ा जिसके बाद कभी कामरान खान उस तरह से बोलिंग नहीं कर पाए जिसके लिए वो मशहूर थे.
2011 में उन्हें पुणे वोरियरस ने भी ख़रीदा पर चोंट के कारण टूनामेंट से बाहर हो गए फिर उन्हें किसी भी टीम ने नहीं ख़रीदा दुख की बात ये है की पैसे की तंगी के कारण उन्हें खेतो में काम करना पड़ा और आज भी वो क्रिकेट खेलने के मौके ढूंढते रहते है पर कोई भी टीम अब कामरान खान पर दाव नहीं लगाना चाहता.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *